A poem / કવિતા – Jameela Nishat

A poem slumbers in my heart, at the centre of my being, and a dim mirror tries to shape it a ghazal a line a word. Day and night it pulls me toward itself, no music, no sound, even silence seems to intrude. What poem is this that sleeps in me and does not let…

Read More

ये ज़मीं जिस कदर सजाई गई

ये ज़मीं जिस कदर सजाई गई ये ज़मीं जिस कदर सजाई गई जिंदगी की तड़प बढ़ाई गई आईने से बिगड़ के बैठ गए जिनकी सूरत उन्हें दिखाई गई दुश्मनों से ही बैर निभ जाए दोस्तों से तो आश्नाई गई नस्ल-दर-नस्ल इंतज़ार रहा क़स्र टूटे न बेनवाई गई ज़िंदगी का नसीब क्या कहिए एक सीता थी…

Read More