निदा फ़ाज़ली – चुनिंदा अशआर

ज़िन्दगी की सच्चाइयों को खूबसूरती से पेश करनेवाले निदा फ़ाज़ली मेरी नज़र में उजालों के , उम्मीदों के शायर है और हमारे दिलो में हमेशा ज़िन्दा रहेंगे

धूप में निकलो
घटाओं में नहाकर देखो
ज़िन्दगी क्या है
किताबों को हटाकर देखो
.. .. .. .. .. ..

कभी किसी को
मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता
कहीं ज़मीं
तो कहीं आसमाँ नहीं मिलता
.. .. .. .. .. .. ..

माटी से माटी मिले, खोके सभी निशान
किसमें कितना कौन है, कैसे हो पहचान।
.. .. .. .. ..

घर से मस्जिद है बहुत दूर
चलो यूँ कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को
हँसाया जाए।
.. .. .. ..

बहुत मुश्किल है बनजारा मिज़ाजी
सलीक़ा चाहिए आवारगी में।
.. .. .. ..

जब किसी से कोई ग़िला रखना
सामने अपने आईना रखना।
.. .. .. ..

घर की तामीर चाहे जैसी हो
इसमें रोने की कुछ जगह रखना।    तामीर – निर्माण
.. .. .. ..

मस्जिदें हैं नमाज़ियों के लिए
अपने दिल में कहीं खुदा रखना।
.. .. .. ..

मैं वो मक़तूल जो क़ातिल न बना
हाथ मेरा भी उठा था पहले।     मक़तूल – क़त्ल किया हुअा
.. .. .. ..

फ़रिश्ते निकले हैं रौशनी के
हरेक रस्ता चमक रहा है
ये वक़्त वो है
ज़मीं का हर ज़र्रा
माँ के दिल-सा धड़क रहा है

पुरानी इक छत पे वक़्त बैठा
कबूतरों को उड़ा रहा है
कि बच्चे स्कूल जा रहे हैं
बच्चे स्कूल जा रहे हैं…..!
.. .. .. .. ..

अच्छी नहीं है शहर के
रास्तों की दोस्ती
आँगन में फैल जाए न
बाज़ार देखना…..!
.. .. .. ..

जो देखती हैं निगाहें
वही नहीं सब कुछ
ये एहतियात भी अपने
बयान में रखना।
.. .. .. ..
निदा फ़ाज़ली [ 1938- 2016]

ग़ज़लें, नज़्में, शे’र और जीवनी
संपादक- कन्हैयालाल नंदन

Nida Fazli