सिर्फ तुम्हारे लिए… सिमोन : शुभम श्री

सिर्फ तुम्हारे लिए… सिमोन (4) जानती हो सिमोन, मैं अकसर सोचती हूँसोचती क्या, चाहती हूँ पहुँचाऊँकुछ प्रतियाँ ‘द सेकंड सेक्स’ की उन तक नहींजो अपना ब्लॉग अपडेट कर रही हैं मीटिंग की जल्दी में हैंबहस में मशगूल हैं ‘सोचनेवाली औरतों’ तक नहीं उन तक जो एक अदद दूल्हा खरीदे जाने के इंतजारमें बैठी हैंकई साल…

Read More