The Passionate Sword : Jean Starr Untermeyer

The Passionate Sword Temper my spirit, oh Lord, Burn out its alloy, And make it a pliant steel for thy wielding, Not a clumsy toy, A blunt, iron thing in my hands That blunder and destroy.  Temper my spirit, oh Lord, Keep it long in the fire; Make it one with the flame. Let it share That up-reaching desire.  Grasp it thyself, oh…

Read More

सृजन का शब्द

आरम्भ में केवल शब्द थाकिन्तु उसकी सार्थकता थी श्रुति बनने मेंकि वह किसी से कहा जाय मौन को टूटना अनिवार्य थाशब्द का कहा जाना थाताकि प्रलय का अराजक तिमिर व्यवस्थित उजियाले में रूपान्तरित हो ताकि रेगिस्तानगुलाबों की क्यारी बन जाय शब्द का कहा जाना अनिवार्य था।आदम की पसलियों के घाव से इवा के मुक्त अस्तित्व की प्रतिष्ठा के लिएशब्द को…

Read More