सारा दिन : मृगतृष्णा

सारा दिन : मृगतृष्णा

तुम्हारी आँखें कुछ बोलती रहीं आज सारा दिन सूरज मेरे कंधे पर सवार रहा आज सारा दिन खूँटी से टँगे … Continue reading सारा दिन : मृगतृष्णा