Deep in the Stillness-  सन्नाटे में दूर तक

Deep in the Stillness He threw me away like a clod of earth. He didn’t know I was a thing with a soul. He didn’t know I was alive. He kept on throwing me like a clod of earth out of his way – onto that neglected path that happened to be mine. And so…

Read More

अब मैं लौट रही हूँ / अमृता भारती

अब कोई फूल नहीं रहा न वे फूल ही जो अपने अर्थों को अलग रख कर भी एक डोरी में गुँथ जाते थे छोटे-से क्षण की लम्बी डोरी में । अब मौसम बदल गया है और टहनियों की नम्रता कभी की झर गई है — मैं अनुभव करती हूँ बिजली का संचरण बादलों में दरारें…

Read More

कालान्तर – Then And Now

कैशोर्य के उन दिनों में मैं सुबह की ख़ुशियों से भर जाता था, पर शामों में रुदन ही रुदन था ; अब, जबकि मैं बूढ़ा हूँ हर दिन उगता है शंकाओं से आच्छन्न, तो भी इसकी सन्ध्याएँ पावन हैं, शान्त और प्रसन्न । कालान्तर / फ़्रेडरिक होल्डरलिन अमृता भारती द्वारा अनूदित …………………… Then And Now…

Read More