आज का चुनिंदा अशआर

मुद्दआ = matter, issue

Read More

जे़हनों में ख़याल जल रहे हैं

जे़हनों में ख़याल जल रहे हैं जे़हनों में ख़याल जल रहे हैंसोचों के अलाव-से लगे हैं अलाव = bonfire दुनिया की गिरिफ्त में हैं साये,हम अपना वुजूद ढूंढते हैं अब भूख से कोई क्या मरेगा,मंडी में ज़मीर बिक रहे हैं माज़ी में तो सिर्फ़ दिल दुखते थे,इस दौर में ज़ेहन भी दुखे हैं ज़ेहन =…

Read More