चुनिंदा अशआर : वसीम बरेलवी

Read More

चुनिंदा अशआर : ज़ेहरा निगाह

मय-ए-हयात में शामिल है तल्ख़ी-ए-दौराँ जभी तो पी के तरसते हैं बे-ख़ुदी के लिए मय-ए-हयात = wine of existence, तल्ख़ी-ए-दौराँ = hard times … औरत के ख़ुदा दो हैं हक़ीक़ी ओ मजाज़ी पर उस के लिए कोई भी अच्छा नहीं होता हक़ीक़ी = real, actual मजाज़ी = metaphorical, allusive … टूटे-फूटे लफ़्ज़ों के कुछ रंग…

Read More

लड़की कैक्टस थी : वियोगिनी ठाकुर

लड़की कैक्टस थी बहुत से लोगों की आँख में चुभती रही वह लड़की काँटा थी या थी— पूरा का पूरा बबूल का पेड़ जिस पर स्वाभिमान नाम का प्रेत और सच्चाई नाम की चुड़ैल डोलते रहे सदा माँ-बाप के लिए पहाड़ थी वह लड़की जिस पर वह साधिकार चढ़ना चाहते थे और पार उतर नहाना…

Read More

सारा दिन : मृगतृष्णा

तुम्हारी आँखें कुछ बोलती रहीं आज सारा दिन सूरज मेरे कंधे पर सवार रहा आज सारा दिन खूँटी से टँगे कोट में सारी रात चाय की एक चुस्की ठिठुरती रही दीवार पर टँगे नक़्शे से आज सारा दिन एक छूटी हुई ट्रेन और तुम्हारा शहर किसी जंगली बिल्ली की आँख-सा चमकता रहा आज सारा दिन…

Read More

कुछ चुने हुए शेर : मरग़ूब अली

हर्फ़ नाकाम जहाँ होते हैं उन लम्हों में फूल खिलते हैं बहुत बात के सन्नाटे में .. लब पर उगाऊँ उस के धनक फूल क़हक़हे आँखों में उस की फैला समुंदर समेट लूँ .. हर रास्ता कहीं न कहीं मुड़ ही जाएगा रिश्तों के बीच थोड़ा बहुत फ़ासला भी रख .. कुर्सी मेज़ किताबें? बिस्तर…

Read More

मधुशाला : हरिवंशराय ‘ बच्चन ‘

मधुशाला : कुछ उद्धरण मधुर भावनाओं की सुमधुर नित्या बनाता हूँ हाला भरता हूँ इस मधु से अपने अंतर का प्यासा प्याला; उठा कल्पना के हाथों से स्वयं उसे पी जाता हूँ; अपने ही में हूँ मैं साक़ी, पीनेवाला, मधुशाला | 5 प्रति रसाल तरु साक़ी-सा है, प्रति मंजरिका है प्याला, छलक रही है जिसके…

Read More

आज का चुनिंदा अशआर

ख़ुलूस-ए-दिल = purity of heart सज्दा = To bow down in devotion and faith जबीं = forehead

Read More

शब्दों का दुःख : दुर्गा प्रसाद पंडा

शब्दों का दुःख आदमियों की तरहशब्दों के दुःखों की सूची भीख़ूब लंबी है। शब्दों में भी होती हैबहुत कुछ अनकही वेदनाइसीलिए आजकल शब्द सारेनज़र आते हैंनितांत असहाय और विषण्ण। भाव, अर्थ और संलाप के कोलाहल के बाहर रह करशायद वे भी जीना चाहते हैं,निजता और एकांत जीवन। सारा जीवन भावों का भार ढोते-ढोतेझुक कर चल…

Read More

बारिश के रंग : प्रमोद पाठक

बारिश के रंग बारिश के रंग जिस तरहफूल-पत्तियों और घासों में खिलते हैंठीक उसी तरहहमारे हाथों में खिलते हैंजिस तरह भीगती लकड़ी परकुकुरमुत्ते उग आते हैंहमारे भीगे हुए हाथों में छाते उग आते हैंइस तरह भीगती लकड़ी से मुलायम हुए हाथअपना छाता लिएदूसरे भीगते हुए हाथों की तरफ़ झुक जाते हैंफिर एक छाते में दो…

Read More

चौपाई : सहजो बाई

आप सबन में सब तें न्यारे चार बुद्धि के मनुष सँवारे प्रथम बुद्धि जल लीक खिंचाई खिंचती जाय सोइ मिटि जाई दूजी बुद्धि लीक रस्ते की चलै मनोरथ मिटै हिये की तीजो बुद्धि पाहन की रेखा घटै सही पर बढै न नेका चौथी तेल बूँद जल माहीं फैलत फैलत फैलत जाही छोटे से दीरघ परकासै…

Read More

ग़ज़ल : मोहसिन नक़वी

नया है शहर नए आसरे तलाश करूँ तू खो गया है कहाँ अब तुझे तलाश करूँ जो दश्त में भी जलाते थे फ़स्ल-ए-गुल के चराग़ मैं शहर में भी वही आबले तलाश करूँ तू अक्स है तो कभी मेरी चश्म-ए-तर में उतर तिरे लिए मैं कहाँ आइने तलाश करूँ तुझे हवास की आवारगी का इल्म…

Read More

आज का चुनिंदा अशआर

अब्र = cloud बातिन = the mind, the heart मंज़र = spectacle लहज़ा-ए-इदराक = moment of senses, awareness

Read More

गज़ल : ज़ेहरा निगाह

My favourites are 3’rd, 5’th & 6’th sher. छलक रही है मय-ए-नाब तिश्नगी के लिए सँवर रही है तिरी बज़्म बरहमी के लिए नहीं नहीं हमें अब तेरी जुस्तुजू भी नहीं तुझे भी भूल गए हम तिरी ख़ुशी के लिए जो तीरगी में हुवैदा हो क़ल्ब-ए-इंसाँ से ज़िया-नवाज़ वो शोला है तीरगी के लिए कहाँ…

Read More

कौन सी है ये गली : नेहल

उदासी के काले, धूंधले, ठंडे थपेडों के बीच ये कौन सा सफ़र बीत रहा है? एक संकरी गली से गुज़र रहे है जिसका कोई अंत नज़र नहीं आ रहा शब्द अपने हाथ-पाँव तूडवा के बैठे है और माइने ढूँढने लगे हैं अपने वजूद को दिशाशून्यता कहीं दिशाहीनता ना बन जाए! ~ नेहल

Read More

गज़ल : आदिल रज़ा मंसूरी

चाँद तारे बना के काग़ज़ पर ख़ुश हुए घर सजा के काग़ज़ पर बस्तियाँ क्यूँ तलाश करते हैं लोग जंगल उगा के काग़ज़ पर जाने क्या हम से कह गया मौसम ख़ुश्क पत्ता गिरा के काग़ज़ पर हँसते हँसते मिटा दिए उस ने शहर कितने बसा के काग़ज़ पर हम ने चाहा कि हम भी…

Read More

आज का चुनिंदा अशआर

तजल्ली = splendour, manifestation simple explanation : This whole world( tavern ) is such a splendour, such a manifestation of ‘his’ love / beauty/ light, that real joy, real pleasure is not in drinking but in losing one’s self in this brilliance. Sufi poetry.

Read More

हरी-हरी दूब पर : अटल बिहारी वाजपेयी

हरी-हरी दूब पर हरी-हरी दूब परओस की बूँदें अभी थीं, अब नहीं हैं। ऐसी खुशियाँ जो हमेशा हमारा साथ दें कभी नहीं थीं, कहीं नहीं हैं।क्वाँर की कोख से फूटा बाल सूर्य जब पूरब की गोद में पाँव फैलाने लगा, तो मेरी बगीची का पत्ता-पत्ता जगमगाने लगा, मैं उगते सूर्य को नमस्कार करूँ, या उसके…

Read More

करवटें लेंगे बूँदों के सपने : नागार्जुन

….. करवटें लेंगे बूँदों के सपने अभी-अभी  कोहरा चीरकर चमकेगा सूरज  चमक उठेंगी ठूँठ की नंगी-भूरी डालें   अभी-अभी  थिरकेगी पछिया बयार  झरने लग जायेंगे नीम के पीले पत्ते   अभी-अभी खिलखिलाकर हँस पड़ेगा कचनार  गुदगुदा उठेगा उसकी अगवानी में  अमलतास की टहनियों का पोर-पोर   अभी-अभी  करवटें लेंगे बूँदों के सपने  फूलों के अन्दर  फलों-फलियों के अन्दर   ~ नागार्जुन (1964) 

Read More

शब्द नहीं गिरते : अशोक वाजपेयी

शब्द नहीं गिरते शब्द नहीं गिरते समय पर वे गिरते हैं धरती पर— जिस पर गिरती है धूप, वर्षा, ऋतुएँ। शब्द गिरते हैं हमेशा धरती पर जिस पर गिरता है ख़ून उड़ती है धूल बनता है कीचड़। धरती पर जहाँ गिरते हैं शस्त्र, शव और बेरहमी से काटे गए अंग-प्रत्यंग, युद्ध की पताकाएँ, टूटे हुए…

Read More

 कुंठा : दुष्यन्त कुमार

 कुंठा मेरी कुंठारेशम के कीड़ों-सीताने-बाने बुनती,तड़प तड़पकरबाहर आने को सिर धुनती,स्वर सेशब्दों सेभावों सेऔ’ वीणा से कहती-सुनती,गर्भवती हैमेरी कुंठा–कुँवारी कुंती! बाहर आने दूँतो लोक-लाज मर्यादाभीतर रहने दूँतो घुटन, सहन से ज़्यादा,मेरा यह व्यक्तित्वसिमटने पर आमादा। ~ दुष्यन्त कुमार

Read More

शब्द से जुडती रेखाएँ : नेहल

Read More

ये ज़िद : शंकरानंद

बच्चे बार-बार रटते हैं पाठ एक ही बात दुहराते हैं बार-बार इस तरह कि सुनने वाले भी ऊब जाएँ लेकिन वे एक बार भी नहीं रुकते मना करने पर और ज़ोर से आवाज़ लगाते हैं आश्चर्य है कि अपनी आवाज़ सुनाने की ये ज़िद धीरे-धीरे लुप्त कहाँ हो जाती है! ~ शंकरानंद ( Born 1983…

Read More

आग पानी : मोनिका कुमार

आग पानी विनम्र स्त्री है वह सभी के प्रति विनम्र सभी से परिचित, और सभी के लिए अजनबी। उसकी आवाज़ धीमी थी विनम्रता से उसकी आवाज़ धीमी हो गई दुपट्टा ओढ़ना भले ही भूल जाए, विनम्रता के आँचल से ढकी रहती है। अखंड विनम्रा है वह। विनम्रता ने सभी को उसके निकट कर दिया विनम्रता…

Read More

धूप की भाषा : श्रीनरेश मेहता

धूप की भाषा-सी खिड़की में मत खड़ी होओ प्रिया! शॉल-सा कंधों पर पड़ा यह फाल्गुन चैत्र-सा तपने लगेगा! केश सुखा लेने के बाद ढीला जूड़ा बना तुम तो लौट जाओगी, परंतु तुम्हें क्या पता, कि तुम— इस गवाक्ष आकाश और बालुकणों जैसे रिसते इस नि:शब्द समय से कहीं अधिक मुझमें एक मर्म एक प्रसंग बन…

Read More

Daily Musings : 97

हर्फ़-ए-ना-गुफ़्ता = unsaid word ला-फ़ानी = immortal simple translation : let me write silence on the lips of ‘sher’ (verse) let me make immortal ‘the unsaid word’. Silence speaks more than words, if we can learn the art of reading silence, our heart will be filled with so many immortal words. Be it a word…

Read More

Daily Musings : 96

जा = place जल्वा-ए-माशूक़ = vision of the beloved शौक़-ए-दीदार = pleasure of seeing नज़र = vision simple translation : There is no place where you cannot see the beloved, if you wish to have pleasure of seeing him/her, develop your vision. In other words; when you have developed your vision to see, you can…

Read More

Daily Musings : 95

हरीम-ए-इश्क़ = sacred space of love हस्ती = existence simple translation: your existence itself is a crime in a sacred space of love do not enter here with your ‘ego’ . in other words, when you’re in love, you do not exist separately from your beloved, you’re one with him. So your ego, your’ head’,…

Read More

अनंत कलरव : निधीश त्यागी

वे सारे फूल जिनके नाम मुझे नहीं पता वे सारे सुर मैं जिन्हें नहीं पहचानता वे सारे शब्द जो डिक्शनरी से भटक गए थे वे सारे सुख जो भूल गए थे अपना ठिकाना वे सारे पाप जिनके शाप की परवाह नहीं वे सारे जंगल जिनके हरा होने का वक़्त क़रीब हो वे सारी बूँदें जो…

Read More

सिर्फ तुम्हारे लिए… सिमोन : शुभम श्री

सिर्फ तुम्हारे लिए… सिमोन (4) जानती हो सिमोन, मैं अकसर सोचती हूँसोचती क्या, चाहती हूँ पहुँचाऊँकुछ प्रतियाँ ‘द सेकंड सेक्स’ की उन तक नहींजो अपना ब्लॉग अपडेट कर रही हैं मीटिंग की जल्दी में हैंबहस में मशगूल हैं ‘सोचनेवाली औरतों’ तक नहीं उन तक जो एक अदद दूल्हा खरीदे जाने के इंतजारमें बैठी हैंकई साल…

Read More

उषा : Daybreak

उषा प्रात: नभ था बहुत नीला शंख जैसे भोर का नभ; राख से लीपा हुआ चौका; अभी गीला पड़ा है बहुत काली सिल ज़रा से लाल केसर से कि जैसे धुल गई हो स्लेट पर या लाल खड़िया चाक मल दी हो किसी ने नील जल में या किसी की गौर झिलमिल देह जैसे हिल…

Read More

जे़हनों में ख़याल जल रहे हैं

जे़हनों में ख़याल जल रहे हैं जे़हनों में ख़याल जल रहे हैंसोचों के अलाव-से लगे हैं अलाव = bonfire दुनिया की गिरिफ्त में हैं साये,हम अपना वुजूद ढूंढते हैं अब भूख से कोई क्या मरेगा,मंडी में ज़मीर बिक रहे हैं माज़ी में तो सिर्फ़ दिल दुखते थे,इस दौर में ज़ेहन भी दुखे हैं ज़ेहन =…

Read More

Daily Musings : 66

Translation : तुख़्म = seed सर्व-ए-चराग़ाँ = graceful display of lamps, चराग़ों से जगमगाता हुआ पेड़ if time permits, (if Time will give me freedom) I will show (them this) amusement My each heart sore is a seed of a tree, illuminated with lamps. meanings, source : rekhta.org

Read More

Daily Musings : 65

*मुनव्वर = प्रकाशमान Translation : There is light everywhere ( I see ) Who is the luminous ( beaming with light ) one in my eyes (?)

Read More

Daily Musings : 64

Simple Translation : ( I saw ) My soul (my life ) melting in each moment Spent night drop by drop ( crying, in grief ) My hands shaking, quivering ( But) ( I came out of all this) on my own, I took control of myself. ~ Kishwar Naheed Translation : Nehal.

Read More

जिसे लिखता है सूरज : निदा फ़ाज़ली

जिसे लिखता है सूरज वो आयी! और उसने मुस्कुरा के मेरी बढ़ती उम्र के सारे पुराने जाने अनजाने बरस पहले हवाओं में उड़ाये और फिर मेरी ज़बाँ के सारे लफ़्जों को ग़ज़ल को गीत को दोहों को नज़्मों को खुली खिड़की से बाहर फेंक कर यूँ खिलखिलाई क़लम ने मेज़ पर लेटे ही लेटे आँख…

Read More

Middle Class Blues : मध्यम वर्ग का गाना

Middle Class Blues We can’t complain.We’re not out of work.We don’t go hungry.We eat.The grass grows,the social product,the fingernail,the past.The streets are empty.The deals are closed.The sirens are silent.All that will pass.The dead have made their wills.The rain’s become a drizzle.The war’s not yet been declared.There’s no hurry for that.We eat the grass.We eat the…

Read More

वान गॉग के अंतिम आत्मचित्र से बातचीत : अनीता वर्मा

एक पुराने परिचित चेहरे परन टूटने की पुरानी चाह थीआँखें बेधक तनी हुई नाकछिपने की कोशिश करता था कटा हुआ कानदूसरा कान सुनता था दुनिया की बेरहमी कोव्यापार की दुनिया में वह आदमी प्यार का इंतज़ार करता था मैंने जंगल की आग जैसी उसकी दाढ़ी को छुआउसे थोड़ा-सा क्या किया नहीं जा सकता था कालाआँखें…

Read More

Everything Is Going To Be All Right : Derek Mahon

Everything Is Going To Be All Right How should I not be glad to contemplate the clouds clearing beyond the dormer window and a high tide reflected on the ceiling? There will be dying, there will be dying, but there is no need to go into that. The lines flow from the hand unbidden and…

Read More

श्रोता : मनीषा जोषी

श्रोता कविता-पाठ करते वक़्तमेरे गले मेंअचानक से प्यास उठती है। डूब जाती है आवाज़जैसे गिर पड़ी होनदी के ऊपर से उड़ रहे किसी पक्षी केमुँह में पकड़े हुए शिकार-सी। मैं पेश करती हूँ कुछ कविताएँसिवाय उसके! मेरी वह एक प्रिय कविताजो मर रही होती है उस नदी में। कविता श्रवण के लिए बैठे हुए चेहरेजब…

Read More

गांधीजी के जन्मदिन पर : दुष्यन्त कुमार

गांधीजी के जन्मदिन पर मैं फिर जनम लूंगाफिर मैंइसी जगह आउंगाउचटती निगाहों की भीड़ मेंअभावों के बीचलोगों की क्षत-विक्षत पीठ सहलाऊँगालँगड़ाकर चलते हुए पावों कोकंधा दूँगागिरी हुई पद-मर्दित पराजित विवशता कोबाँहों में उठाऊँगा । इस समूह मेंइन अनगिनत अचीन्ही आवाज़ों मेंकैसा दर्द हैकोई नहीं सुनता !पर इन आवाजों कोऔर इन कराहों कोदुनिया सुने मैं ये…

Read More

साबुत आईने : धर्मवीर भारती

साबुत आईने इस डगर पर मोह सारे तोड़ले चुका कितने अपरिचित मोड़ पर मुझे लगता रहा हर बारकर रहा हूँ आइनों को पार दर्पणों में चल रहा हूँ मैंचौखटों को छल रहा हूँ मैं सामने लेकिन मिली हर बारफिर वही दर्पण मढ़ी दीवार फिर वही झूठे झरोखे द्वारवही मंगल चिन्ह वन्दनवार किन्तु अंकित भीत पर,…

Read More

नज़्म : गुलज़ार

मैं जितनी भी ज़बानें बोल सकता हूँ वो सारी आज़माई हैं… ‘ख़ुदा’ ने एक भी समझी नहीं अब तक, न वो गर्दन हिलाता है, न वो हंकारा ही देता है! कुछ ऐसा सोच कर— शायद फ़रिश्तों ही से पढ़वा ले, कभी मैं चाँद की तख़्ती पे लिख देता हूँ, कोई शेर ‘ग़ालिब’ का तो धो…

Read More

गीत मेरे : हरिवंशराय बच्चन

 गीत मेरे गीत मेरे, देहरी का दीप-सा बन। एक दुनिया है हृदय में, मानता हूँ,वह घिरी तम से, इसे भी जानता हूँ,छा रहा है किंतु बाहर भी तिमिर-घन,गीत मेरे, देहरी का द‍ीप-सा बन। प्राण की लौ से तुझे जिस काल बारुँ,और अपने कंठ पर तुझको सँवारूँ,कह उठे संसार, आया ज्‍योति का क्षण,गीत मेरे, देहरी का…

Read More

दिन ढले की बारिश : धर्मवीर भारती

बारिश दिन ढले कीहरियाली-भीगी, बेबस, गुमसुमतुम हो और,और वही बलखाई मुद्राकोमल शंखवाले गले कीवही झुकी-मुँदी पलक सीपी में खाता हुआ पछाड़बेज़बान समन्दर अन्दरएक टूटा जलयानथकी लहरों से पूछता है पतादूर- पीछे छूटे प्रवालद्वीप का बांधूंगा नहींसिर्फ़ काँपती उंगलियों से छू लूँ तुम्हेंजाने कौन लहरें ले आई हैंजाने कौन लहरें वापिस बहा ले जाएंगी मेरी इस…

Read More

सृजन का शब्द

आरम्भ में केवल शब्द थाकिन्तु उसकी सार्थकता थी श्रुति बनने मेंकि वह किसी से कहा जाय मौन को टूटना अनिवार्य थाशब्द का कहा जाना थाताकि प्रलय का अराजक तिमिर व्यवस्थित उजियाले में रूपान्तरित हो ताकि रेगिस्तानगुलाबों की क्यारी बन जाय शब्द का कहा जाना अनिवार्य था।आदम की पसलियों के घाव से इवा के मुक्त अस्तित्व की प्रतिष्ठा के लिएशब्द को…

Read More

गज़ल – निदा फ़ाज़ली

सफ़र को जब भी किसी दास्तान में रखना क़दम यक़ीन में मंज़िल गुमान में रखना  जो साथ है वही घर का नसीब है लेकिन जो खो गया है उसे भी मकान में रखना  जो देखती हैं निगाहें वही नहीं सब कुछ ये एहतियात भी अपने बयान में रखा  वो एक ख़्वाब जो चेहरा कभी नहीं बनता बना के चाँद…

Read More

बेजगह – अनामिका

“अपनी जगह से गिर कर कहीं के नहीं रहते केश, औरतें और नाख़ून” – अन्वय करते थे किसी श्लोक को ऐसे हमारे संस्कृत टीचर। और मारे डर के जम जाती थीं हम लड़कियाँ अपनी जगह पर।   जगह? जगह क्या होती है? यह वैसे जान लिया था हमने अपनी पहली कक्षा में ही।   याद था हमें एक-एक क्षण आरंभिक पाठों का– राम, पाठशाला जा ! राधा, खाना पका ! राम,…

Read More

झाडुवाली – ओमप्रकाश वाल्मीकि

सुबह पाँच बजे हाथ में थामे झाड़ू घर से निकल पड़ती है रामेसरी लोहे की हाथ गाड़ी धकेलते हुए खड़ाँग-खड़ाँग की कर्कश आवाज़ टकराती है शहर की उनींदी दीवारों से गुज़रती है सुनसान पड़े चौराहों से करती हुई ऐलान जागो! पूरब दिशा में लाल-लाल सूर्य उगने वाला है नगरपालिका की सुनसान सड़कें धुँधलकों की जमात…

Read More

दोहा, पद – संत रैदास (1398-1518 )

रैदास हमारौ राम जी, दशरथ करि सुत नाहिं। राम हमउ मांहि रहयो, बिसब कुटंबह माहिं॥ रैदास कहते हैं कि मेरे आराध्य राम दशरथ के पुत्र राम नहीं हैं। जो राम पूरे विश्व में, प्रत्येक घर−घर में समाया हुआ है, वही मेरे भीतर रमा हुआ है। * ऊँचे कुल के कारणै, ब्राह्मन कोय न होय। जउ जानहि ब्रह्म आत्मा, रैदास कहि ब्राह्मन सोय॥ मात्र ऊँचे कुल में जन्म लेने के कारण ही कोई ब्राह्मण नहीं कहला सकता। जो ब्रहात्मा को जानता है, रैदास कहते हैं कि वही ब्राह्मण कहलाने का अधिकारी है। * रैदास इक ही बूंद सो, सब ही भयो वित्थार। मुरखि हैं तो करत हैं, बरन अवरन विचार॥ रैदास कहते हैं कि यह सृष्टि एक ही बूँद का विस्तार है अर्थात् एक ही ईश्वर से सभी प्राणियों का विकास हुआ है; फिर भी जो लोग जात-कुजात का विचार अर्थात् जातिगत भेद−विचार करते हैं, वे नितांत मूर्ख हैं। * ब्राह्मण…

Read More

कुछ चुने हुए शेर, ग़ज़ल – राहत इंदौरी

मैं ख़ुद भी करना चाहता हूँ अपना सामना तुझ को भी अब नक़ाब उठा देनी चाहिए * ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे नींद रखो या न रखो ख़्वाब मेयारी रखो मेयारी = qualitative * आसमानों की तरफ़ फेंक दिया है मैं ने चंद मिट्टी के चराग़ों को सितारा कर के *…

Read More

कुछ अशआर, नज़्म – निदा फ़ाज़ली

यूँ लग रहा है जैसे कोई आस-पास है वो कौन है जो है भी नहीं और उदास है  मुमकिन है लिखने वाले को भी ये ख़बर न हो क़िस्से में जो नहीं है वही बात ख़ास है  चलता जाता है कारवान-ए-हयात  इब्तिदा क्या है इंतिहा क्या है  ख़ुद से मिलने का चलन आम नहीं है वर्ना  अपने…

Read More

अनबींधे मन का गीत ( સરળ ગુજરાતી સાર સાથે)

जल तो बहुत गहरा थाकमलों तक समझे हम झील वह अछूती थीपुरइन से ढंकी हुईसूरज से अनबोलीचाँद से न खुली हुईकई जन्म अमर हुएकोरी अब सिर्फ देहपहली ही बिजलीहमें नौका-सी बाँध गई लहरें किन्तु भीतर थींरोओं तक समझे हम तट से बंधा मनछाया कृतियों में मग्न रहास्वप्न की हवाओं मेंतिरती हुयी गन्ध रहाअतल बीचसीपी का…

Read More

उनको प्रणाम : नागार्जुन

उनको प्रणाम जो नहीं हो सके पूर्ण–काम मैं उनको करता हूँ प्रणाम ।  कुछ कंठित औ’ कुछ लक्ष्य–भ्रष्ट जिनके अभिमंत्रित तीर हुए; रण की समाप्ति के पहले ही जो वीर रिक्त तूणीर हुए ! उनको प्रणाम !  जो छोटी–सी नैया लेकर उतरे करने को उदधि–पार; मन की मन में ही रही¸ स्वयं हो गए उसी में निराकार ! उनको प्रणाम !  जो उच्च शिखर…

Read More

सह अस्तित्व – नेहल

हजारों कन्सट्रकशन वर्क के रजकणसेघूंटा हुआ हवा का दम छूटा और ली राहत की साँसबेवजह इधर-उधर दौडते रहते पहियों केधुंए से चोक हुए गले को पवनने किया साफ़आह, आसमान आज लगे नहाया, साफ़, नीलाधूप चमक रही उजलीतृणांकुर अपना कोमल शीश उठाए देख रहे अजूबावातावरण में गूंजती पक्षियों की ऑर्केस्ट्रा परडोल रहे है पेड़प्रकृति मना रही…

Read More

मेरा सफ़र. – अली सरदार जाफ़री

हमचू सब्ज़ा बारहा रोईदा-ईम (हम हरियाली की तरह बार-बार उगे हैं) रूमी … फिर इक दिन ऐसा आएगा आँखों के दिये बुझ जाएँगे हाथों के कँवल कुम्हलाएँगे और बर्गे-ज़बाँ से नुत्क़ो-सदा की हर तितली उड़ जाएगी इक काले समन्दर की तह में कलियों की तरह से खिलती हुई फूलों की तरह से हँसती हुई सारी…

Read More

कितना अच्छा होता है – सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

कुछ चुनी हुई पंक्तिआँ कुछ देर और बैठो अभी तो रोशनी की सिलवटें हैं हमारे बीच। उन्हें हट तो जाने दो – शब्दों के इन जलते कोयलों पर गिरने तो दो समिधा की तरह मेरी एकांत समर्पित खामोशी! ….. सारा अस्तित्व रेल की पटरी-सा बिछा है हर क्षण धड़धड़ाता हुआ निकल जाता है। ….. जलहीन,सूखी,पथरीली,…

Read More

तुम्हारे साथ रहकर – सर्वेश्वरदयाल सक्सेना

तुम्हारे साथ रहकर अक्सर मुझे ऐसा महसूस हुआ है कि दिशाएँ पास आ गयी हैं, हर रास्ता छोटा हो गया है, दुनिया सिमटकर एक आँगन-सी बन गयी है जो खचाखच भरा है, कहीं भी एकान्त नहीं न बाहर, न भीतर। हर चीज़ का आकार घट गया है, पेड़ इतने छोटे हो गये हैं कि मैं…

Read More

अश्मीभूत हो रहे भस्मासूर हम – नेहल

बहते हुए काल की गर्तामें अश्मीभूत हो रहे हम! कुछ सदिओं की धरोहर परंपराओं से आज को मूल्यांकित करने में मशरुफ़ सदिओं के अंघेरे कर रहे हैं अट्टहास्य हमारे महान, श्रेष्ठ होने के दावों पर। इस अकळ, गहन ब्रह्मांड के एक बिंदु मात्र जिसको सूर्य बनाने की जिदमें अहोनिश जलते-बुझते हम। बहेती, लुप्त हो रही…

Read More

અશ્મીભૂત થતા ભસ્માસૂર આપણે – નેહલ

સરકતી જતી કાળની ગર્તામાં અશ્મીભૂત થતા આપણે થોડીક સદીઓની જણસને વળગી આજને મૂલવવાની રમતમાં ગળાડૂબ સદીઓ પારના અંધારા ખડખડ હસે છે આપણા મહાનતા, શ્રેષ્ઠતાના દાવાઑ પર. આ ગહન બ્રહ્માંડ નું એક ટપકું માત્ર એને ઘૂંટી ઘૂંટીને સૂર્ય બનાવવાની મથામણમાં ભડ ભડ બળતા, બૂઝતા આપણે. વહેતી, લુપ્ત થતી નદીઓ હતા, ન હતા થતા નગાધિરાજો તૂટતા-જોડાતા ભૂમિ…

Read More

फ़हमीदा रियाज़ – ग़ज़ल

क्यूँ नूर-ए-अबद दिल में गुज़र कर नहीं पाता                 नूर-ए-अबद  = eternal light सीने की सियाही से नया हर्फ़ लिखा है                       हर्फ़  = word .. .. .. .. ये पैरहन जो मिरी रूह का उतर न सका…

Read More

घास तो मुझ जैसी है – The Grass is really like me

THE GRASS IS REALLY LIKE ME The grass is also like me it has to unfurl underfoot to fulfill itself but what does its wetness manifest: a scorching sense of shame or the heat of emotion? The grass is also like me As soon as it can raise its head the lawnmower obsessed with flattening…

Read More

ग़ज़ल – साहिर देहल्वी ( સરળ ગુજરાતી સમજૂતી સાથે )

दरमियान-ए-जिस्म-ओ-जाँ है इक अजब सूरत की आड़ मुझ को दिल की दिल को है मेरी अनानियत की आड़ आ गया तर्क-ए-ख़ुदी का गर कभी भूले से ध्यान दिल ने पैदा की हर एक जानिब से हर सूरत की आड़ देते हैं दिल के एवज़ वो दर्द बहर-ए-इम्तिहाँ लेते हैं नाम-ए-ख़ुदा अपनी तमानिय्यत की आड़ नफ़्स-परवर…

Read More

रौशन जमाल-ए-यार से है- हसरत मोहानी

This particular Ghazal starts with the description of a beautiful beloved and in the last two Sher, there is mention of ongoing struggle for freedom; that is what I found very interesting. This Ghazal is beautifully written. …………………………………. रौशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम               जमाल-ए-यार = beauty of the beloved…

Read More

ज़िन्दगी से उन्स है – साहिर लुधियानवी

ज़िन्दगी से उन्स है     उन्स- प्रेम हुस्न से लगाव है धड़कनों में आज भी इश्क़ का अलाव है दिल अभी बुझा नहीं रंग भर रहा हूँ मैं ख़ाका ए-हयात में         ख़ाका ए-हयात- जीवन चित्र आज भी हूँ मुन्हमिक       मुन्हमिक- व्यस्त फ़िक्रे-कायनात में          फ़िक्रे-कायनात-…

Read More

पलकों से भागे सपनों-से नीमपके फल, लम्हे !

ब्लोग जगत के मेरे मित्रों, पाँचवी सालगिरह का ज़श्न मनाते हुए आज मेरी आप लोगों के द्वारा सबसे ज़्यादा पढी गई हिन्दी कविताएँ पेश कर रही हूँ। यह बताते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है कि हिन्दीमें लिखना ये ब्लोग के साथ ही शुरु हुआ है, उस माइनेमें आप मेरे हिन्दी लेखिनी की सर्जनात्मक…

Read More

जश़्ने सुख़नगोई, ब्लोग के पाँचवे जन्मदिन पर…

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे नींद रक्खो या न रक्खो ख़्वाब मेयारी रखो ( मेयारी – qualitative) राहत इंदौरी …….. तू शाहीं है परवाज़ है काम तेरा तिरे सामने आसमाँ और भी हैं   (शाहीं= eagle) अल्लामा इक़बाल  ब्लोग जगत के मेरे मित्रों, अपने ब्लोग के पाँच साल पूरे होने की खुशी…

Read More

गज़ल – क़तील शिफ़ाई

अपने होंटों पर सजाना चाहता हूँ आ तुझे मैं गुनगुनाना चाहता हूँ कोई आँसू तेरे दामन पर गिरा कर बूँद को मोती बनाना चाहता हूँ थक गया मैं करते करते याद तुझ को अब तुझे मैं याद आना चाहता हूँ छा रहा है सारी बस्ती में अँधेरा रौशनी को, घर जलाना चाहता हूँ आख़री हिचकी…

Read More

मिलना न मिलना एक बहाना है और बस – सलीम कौसर

मिलना न मिलना एक बहाना है और बस तुम सच हो बाक़ी जो है फ़साना है और बस लोगों को रास्ते की ज़रूरत है और मुझे इक संग-ए-रहगुज़र को हटाना है और बस                   संग-ए-रहगुज़र = stone on the way मसरूफ़ियत ज़ियादा नहीं है मिरी यहाँ मिट्टी…

Read More

कुछ चुने हुए शेर : ​सलीम कौसर

बिछड़ती और मिलती साअतों के दरमियान इक पल यही इक पल बचाने के लिए सब कुछ गँवाया है                       साअतों = times : : : साँस लेने से भी भरता नहीं सीने का ख़ला जाने क्या शय है जो बे-दख़्ल हुई है मुझ में  …

Read More

अभिव्यक्ति का प्रश्न – दुष्यंत कुमार ( સરળ ગુજરાતી સાર સાથે )

अभिव्यक्ति का प्रश्न प्रश्न अभिव्यक्ति का है, मित्र! किसी मर्मस्पर्शी शब्द से या क्रिया से, मेरे भावों, अभावों को भेदो प्रेरणा दो! यह जो नीला ज़हरीला घुँआ भीतर उठ रहा है, यह जो जैसे मेरी आत्मा का गला घुट रहा है, यह जो सद्य-जात शिशु सा कुछ छटपटा रहा है, यह क्या है? क्या है…

Read More

काश ऐसा होता – लीना टिब्बी

काश ऐसा होता कि ईश्वर मेरे बिस्तर के पास रखे पानी भरे गिलास के अन्दर से बैंगनी प्रकाश पुंज-सा अचानक प्रकट हो जाता… काश ऐसा होता कि ईश्वर शाम की अजान बन कर हमारे ललाट से दिन भर की थकान पोंछ देता… काश ऐसा होता कि ईश्वर आसूँ की एक बूंद बन जाता जिसके लुढ़कने…

Read More

हलकी नीली यादें – Memories Of Light Blue

हलकी नीली यादें ओ विस्मृति के पहाड़ों में निर्वासित मेरे लोगो ! ओ मेरे रत्नों और जवाहरातो ! क्यों ख़ामोशी के कीचड़ में सोए हुए हो तुम ? ओ मेरे आवाम ! गुम हो चुकी हैं तुम्हारी यादें तुम्हारी हलकी नीली, वो आसमानी यादें । हमारे दिमागों में गाद भर चुकी है और विस्मरण के…

Read More

सितारे – Stars:​ Giuseppe Ungaretti

हमारे ऊपर एक बार फिर जलती हैं कपोल-कथाएँ हवा के पहले झोंके में ही झर जाएँगी पत्तियों के साथ किन्तु अगली साँस के साथ वापस लौट आएगी एक नई झिलमिलाहट – उंगारेत्ती (8 फ़रवरी 1888- 2 जून 1970) अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल ……………….. Stars They come back high to burn the tales. They…

Read More

Every Song – हर गीत

Every Song Every song is the remains of love. Every light the remains of time. A knot of time. And every sigh the remains of a cry. Federico García Lorca Translated by A. S. Kline © Copyright 2007 All Rights Reserved ……………….. हर गीत चुप्पी है प्रेम की हर तारा चुप्पी है समय की समय…

Read More

चिराग़ जलते हैं – सूर्यभानु गुप्त

जिनके अंदर चिराग़ जलते हैं, घर से बाहर वही निकलते हैं। बर्फ़ गिरती है जिन इलाकों में, धूप के कारोबार चलते हैं। दिन पहाड़ों की तरह कटते हैं, तब कहीं रास्ते पिघलते हैं। ऐसी काई है अब मकानों पर, धूप के पाँव भी फिसलते हैं। खुदरसी उम्र भर भटकती है, लोग इतने पते बदलते हैं।…

Read More

कुछ चुने हुए शेर:​ सूर्यभानु गुप्त

जिनके नामों पे आज रस्ते हैं वे ही रस्तों की धूल थे पहले …… अन्नदाता हैं अब गुलाबों के जितने सूखे बबूल थे पहले …… मूरतें कुछ निकाल ही लाया पत्थरों तक अगर गया कोई ……. यहाँ रद्दी में बिक जाते हैं शाइर गगन ने छोड़ दी ऊँचाइयाँ हैं कथा हर ज़िंदगी की द्रोपदी-सी बड़ी…

Read More

हर लम्हा ज़िन्दगी के पसीने से तंग हूँ – सूर्यभानु गुप्त

हैज़ा, टी. बी.,चेचक से मरती थी पहले दुनिया मन्दिर, मसजिद, नेता, कुरसी हैं ये रोग अभी के ….. इक मोम के चोले में धागे का सफ़र दुनिया, अपने ही गले लग कर रोने की सज़ा पानी। …….. हर लम्हा ज़िन्दगी के पसीने से तंग हूँ हर लम्हा ज़िन्दगी के पसीने से तंग हूँ मैं भी…

Read More

The Song Of The Barren Orange Tree – Poem by Federico García Lorca

Woodcutter. Cut out my shadow. Free me from the torture of seeing myself fruitless. Why was I born among mirrors? The daylight revolves around me. And the night herself repeats me in all her constellations. I want to live not seeing self. I shall dream the husks and insects change inside my dreaming into my…

Read More

नए गीत – फ़ेदेरिको गार्सिया लोर्का

नए गीत तीसरा पहर कहता है- मैं छाया के लिए प्यासा हूँ चांद कहता है- मुझे तारों की प्यास है बिल्लौर की तरह साफ़ झरना होंठ मांगता है और हवा चाहती है आहें मैं प्यासा हूँ ख़ुशबू और हँसी का मैं प्यासा हूँ चन्द्रमाओं, कुमुदनियों और झुर्रीदार मुहब्बतों से मुक्त गीतों का कल का एक…

Read More

नई आवाज – रामधारी सिंह “दिनकर”

कभी की जा चुकीं नीचे यहाँ की वेदनाएँ, नए स्वर के लिए तू क्या गगन को छानता है ? [1] बताएँ भेद क्या तारे ? उन्हें कुछ ज्ञात भी हो, कहे क्या चाँद ? उसके पास कोई बात भी हो। निशानी तो घटा पर है, मगर, किसके चरण की ? यहाँ पर भी नहीं यह…

Read More

नज़्म – अमीक़ हनफ़ी (સરળ ગુજરાતી ભાવાનુવાદ સાથે)

ज़ात का आईना-ख़ाना जिस में रौशन इक चराग़-ए-आरज़ू चार-सू ज़ाफ़रानी रौशनी के दाएरे मुख़्तलिफ़ हैं आईनों के ज़ाविए एक लेकिन अक्स-ए-ज़ात; इक इकाई पर उसी की ज़र्ब से कसरत-ए-वहदत का पैदा है तिलिस्म ख़ल्वत-ए-आईना-ख़ाना में कहीं कोई नहीं सिर्फ़ मैं! मैं ही बुत और मैं ही बुत-परस्त! मैं ही बज़्म-ए-ज़ात में रौनक़-अफ़रोज़ जल्वा-हा-ए-ज़ात को देता…

Read More

पंचभूतों ने जो मुझे सिखलाया – के० सच्चिदानंदन

धरती ने मुझे सिखलाया है- सब कुछ स्वीकारना सब कुछ के बाद सबसे परे हो जाना हर ऋतु में बदलना यह जानते हुए कि स्थिरता मृत्यु है चलते चले जाना है अन्दर और बाहर। अग्नि ने मुझे सिखलाया है- तृष्णा में जलना नाचते-नाचते हो जाना राख दुख से होना तपस्वी काली चट्टानों के दिल और…

Read More

कुआँ…नारी जीवन की अभिव्यक्ति / मधु गजाधर

कुआँ मैं एक कुआँ हूँ, गहरा कुआँ , मेरे अन्दर के अँधेरे में भी शांति है , शीतलता है ,… क्योंकि मैं जल से ओत प्रोत हूँ, जल… प्रेम का जल , अपनत्व का जल, ममता का जल, संस्कार का जल, श्रधा के समर्पण का जल, जल ही जल , चहुँ और मेरे जल ही…

Read More

Those Bells Are Driving Me Crazy- चढ़न चरी कई

Those Bells Are Driving Me Crazy Those bells are driving me crazy How can I sleep? Ten times a day I pine for him I’ll wear the chains of his love Till death Standing at the edge They cry out, ‘My love!’ But they love only their lives Some claim, ‘I’m all yours’ But wet…

Read More

Poems – Dunya Mikhail

Dunya Mikhail was born in Iraq (Baghdad) in 1965 and came to the United States thirty years later. She’s renowned for her subversive, innovative, and satirical poetry. After graduation from the University of Baghdad, she worked as a journalist and translator for the Baghdad Observer. Facing censorship and interrogation, she left Iraq, first to Jordan…

Read More

न्यूयार्क में एक तितली – A Butterfly in New York – Sinan Antoon

बग़दाद के अपने बग़ीचे में मैं अक्सर भागा करता था उसके पीछे मगर वह उड़कर दूर चली जाती थी हमेश। आज तीन दशकों बाद एक दूसरे महाद्वीप में वह आकर बैठ गई मेरे कन्धे पर। नीली समन्दर के ख़यालों या आख़िरी साँसें लेती किसी परी के आँसुओं की तर॥ उसके पर स्वर्ग से गिरती दो…

Read More

मेरा एकांत -सुरेश जोशी

मेरा एकांत मैं देता हूं तुम्हें एकांत— हंसी के जमघट के बीच एक अकेला अश्रु शब्दों के शोर के बीच एक बिंदु भर मौन यदि तुम्हें सहेजकर रखना है तो यह रहा मेरा एकांत— विरह सम विशाल अंधेरे सम नीरंध्र तुम्हारी उपेक्षा जितना गहरा जिसका साक्ष्य न सूर्य, न चंद्रमा ऐसा केवल एकांतातीत एकांत नहीं,…

Read More

नज़्म – साहिर लुधियानवी

अश्कों में जो पाया है, वो गीतों में दिया है इस पर भी सुना है, कि ज़माने को गिला है जो तार से निकली है, वो धुन सबने सुनी है जो साज़ पे गुज़री है, वो किस दिल को पता है …… ज़िन्दगी से उन्स है हुस्न से लगाव है धड़कनों में आज भी इश़्क…

Read More

ख़्वाब – नेहल

जब पलकों से कोई ख़्वाब गिरता है तो नींद भी मचल जाती है उसके पीछे दौड़ जाती है आँखों को खूला छोड कर। ख़्वाबों का पीछा करना कहाँ आसान है न जागते न सोते फिर भी न जाने क्यूँ ख़्वाबो से नींद का सौदा करने की आदत सी हो गई है। ख़्वाब; क्या है…. अरमानों…

Read More

ग़ज़ल – कुमार पाशी

अपने गिर्द-ओ-पेश का भी कुछ पता रख दिल की दुनिया तो मगर सब से जुदा रख लिख बयाज़-ए-मर्ग में हर जा अनल-हक़ और किताब-ए-ज़ीस्त में बाब-ए-ख़ुदा रख उस की रंगत और निखरेगी ख़िज़ाँ में ये ग़मों की शाख़ है इस को हरा रख आ ही जाएगी उदासी बाल खोले आज अपने दिल का दरवाज़ा खुला…

Read More

आज फिर शुरू हुआ जीवन – આજ ફરીથી – रघुवीर सहाय

आज फिर शुरू हुआ जीवन आज मैंने एक छोटी-सी सरल-सी कविता पढ़ी आज मैंने सूरज को डूबते देर तक देखा जी भर आज मैंने शीतल जल से स्नान किया आज एक छोटी-सी बच्ची आई,किलक मेरे कन्धे चढ़ी आज मैंने आदि से अन्त तक पूरा गान किया आज फिर जीवन शुरू हुआ । – रघुवीर सहाय…

Read More

कुमार पाशी – चुनिंदा अशआर

हवा के रंग में दुनिया पे आश्कार हुआ मैं क़ैद-ए-जिस्म से निकला तो बे-कनार हुआ आश्कार = clear, manifest, visible, व्यक्त, प्रकट, ज़ाहिर, स्पष्ट, साफ़ बे-कनार = boundless, without a shore, infinite **** पढ़ के हक़ाएक़ कहीं न अंधा हो जाऊँ मुझ को अब हो सके तो कुछ अफ़्साने दो हक़ाएक़ = facts, realities ****…

Read More

ग़ज़ल – शहरयार

बताऊँ किस तरह अहबाब को आँखें जो ऐसी हैं कि कल पलकों से टूटी नींद की किर्चें समेटी हैं सफ़र मैंने समंदर का किया काग़ज़ की कश्ती में तमाशाई निगाहें इसलिए बेज़ार इतनी हैं ख़ुदा मेरे अता कर मुझको गोयाई कि कह पाऊँ ज़मीं पर रात-दिन जो बातें होती मैंने देखी हैं तू अपने फ़ैसले…

Read More

ग़ज़ल – दुष्यंत कुमार

कुछ चुनिंदा अशआर : सिर्फ़ शाइ’र देखता है क़हक़हों की असलियत हर किसी के पास तो ऐसी नज़र होगी नहीं …     …    …   …   … लोग हाथों में लिए बैठे हैं अपने पिंजरे आज सय्याद को महफ़िल में बुला लो यारो ..   ..   ..   ..    ..…

Read More

वक़्त – जावेद अख़्तर

ये वक़्त क्या है? ये क्या है आख़िर कि जो मुसलसल गुज़र रहा है ये जब न गुज़रा था, तब कहाँ था कहीं तो होगा गुज़र गया है तो अब कहाँ है कहीं तो होगा कहाँ से आया किधर गया है ये कब से कब तक का सिलसिला है ये वक़्त क्या है ये वाक़ये…

Read More

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक – मिर्ज़ा ग़ालिब

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक (A prayer needs a lifetime, an answer to obtain who can live until the time that you decide to deign) दाम-ए-हर-मौज में है हल्क़ा-ए-सद-काम-ए-नहंग देखें क्या गुज़रे है क़तरे पे गुहर होते तक (snares are spread in every…

Read More

बशीर बद्र (रोशनी के घरौंदे)

  शाम आँखों में, आँख पानी में और पानी सराए-फ़ानी में झिलमिलाते हैं कश्तियों में दीए पुल खड़े सो रहे हैं पानी में ख़ाक हो जायेगी ज़मीन इक दिन आसमानों की आसमानी में वो हवा है उसे कहाँ ढूँढूँ आग में, ख़ाक में, कि पानी में आ पहाड़ों की तरह सामने आ इन दिनों मैं…

Read More

Deep in the Stillness-  सन्नाटे में दूर तक

Deep in the Stillness He threw me away like a clod of earth. He didn’t know I was a thing with a soul. He didn’t know I was alive. He kept on throwing me like a clod of earth out of his way – onto that neglected path that happened to be mine. And so…

Read More

चुनिंदा अशआर- बशीर बद्र (3)

धूप की चादर मिरे सूरज से कहना भेज दे गुर्बतों का दौर है जाड़ों की शिददत है बहुत …… उन अँधेरों में जहाँ सहमी हुई थी ये ज़मीं रात से तनहा लड़ा, जुगनू में हिम्मत है बहुत ……. तारों भरी पलकों की बरसायी हुई ग़ज़लें है कौन पिरोये जो बिखरायी हुई ग़ज़लें ……… पास से…

Read More

सफ़र – नेहल

हरे दरख़्तो के चम्पई अंधेरोमें शाम के साये जब उतरते है रात की कहानी छेड देते है जुग्नूओं की महफ़िलमें। रात की रानी खुश्बू की सौगात से भर देती है यादों के मंज़र। तन्हाई कब तन्हा रह पाती है!? चाँद, सितारे, सपने मेरे साथी उगते, डूबते मेरे संग आकाश हो या हो मन का आँगन…

Read More

इक लफ़्ज़-ए-मोहब्बत का – जिगर मुरादाबादी

इक लफ़्ज़-ए-मोहब्बत का अदना ये फ़साना है सिमटे तो दिल-ए-आशिक़ फैले तो ज़माना है ये किस का तसव्वुर है ये किस का फ़साना है जो अश्क है आँखों में तस्बीह का दाना है दिल संग-ए-मलामत का हर-चंद निशाना है दिल फिर भी मिरा दिल है दिल ही तो ज़माना है हम इश्क़ के मारों का…

Read More

अब मैं लौट रही हूँ / अमृता भारती

अब कोई फूल नहीं रहा न वे फूल ही जो अपने अर्थों को अलग रख कर भी एक डोरी में गुँथ जाते थे छोटे-से क्षण की लम्बी डोरी में । अब मौसम बदल गया है और टहनियों की नम्रता कभी की झर गई है — मैं अनुभव करती हूँ बिजली का संचरण बादलों में दरारें…

Read More

कालान्तर – Then And Now

कैशोर्य के उन दिनों में मैं सुबह की ख़ुशियों से भर जाता था, पर शामों में रुदन ही रुदन था ; अब, जबकि मैं बूढ़ा हूँ हर दिन उगता है शंकाओं से आच्छन्न, तो भी इसकी सन्ध्याएँ पावन हैं, शान्त और प्रसन्न । कालान्तर / फ़्रेडरिक होल्डरलिन अमृता भारती द्वारा अनूदित …………………… Then And Now…

Read More

Sunshine – Gulzar

Sunshine A golden sun shines on floating islands in the cosmos. The rarefied mist has slipped aside. Your face quivers in my palms. The morning cupped in my hands. A soft refulgence courses through my whole being. I have drunk in the drops of light, which had slipped from your radiant soul and suffused your…

Read More

A Moment in Time – एक लम्हा : कैफ़ी आज़मी

Life is the name given to a few moments, and In but one of those fleeting moments Two eyes meet eloquently Looking up from a cup of tea, and Enter the heart piercingly And say, Today do not speak I’ll be silent too Let’s just sit thus. Holding each other’s hand United by this gift…

Read More

मिली हवाओं में उड़ने की – वसीम बरेलवी

मिली हवाओं में उड़ने की वो सज़ा यारो के मैं ज़मीन के रिश्तों से कट गया यारो वो बेख़याल मुसाफ़िर मैं रास्ता यारो कहाँ था बस में मेरे उस को रोकना यारो मेरे क़लम पे ज़माने की गर्द ऐसी थी के अपने बारे में कुछ भी न लिख सका यारो तमाम शहर ही जिस की…

Read More

ग़ज़ल – इन्दु श्रीवास्तव

    आए हैं जिस मक़ाम से उसका पता न पूछ रुदादे-सफ़र पूछ मगर रास्ता न पूछ गर हो सके तो देख ये पाँवों के आबले सहरा कहाँ था और कहाँ ज़लज़ला न पूछ वाँ से चले हैं जबसे मुसलसल नशे में है ले जाए किस दयार में हमको नशा न पूछ वाक़िफ़ नहीं है…

Read More

Amen- कुछ और नज़्में

Amen Give everything away— Ideas, breath, vision, thoughts. Peel off words from the lips, and sounds from the tongue. Wipe off the lines from the palms. Give up your ego, for you are not yourself. Take off the body beautiful from your soul. Finish your prayers, say Amen! And surrender the soul. – Gulzar (…

Read More

रात पहाड़ों पर कुछ और ही होती है…

रात पहाड़ों पर कुछ और ही होती है… रात पहाड़ों पर कुछ और ही होती है… आस्मान बुझता ही नहीं, और दरिया रौशन रहता है इतना ज़री का काम नज़र आता है फ़लक पे तारों का जैसे रात में ‘प्लेन’ से रौशन शहर दिखाई देते हैं! पास ही दरिया आँख पे काली पट्टी बाँध के…

Read More

सूर्य ग्रहन- नेहल

  मेरे भीतर से उठ रहा है ख़लाओं का काला चाँद ढक रहा है मेरे सूरज को धीरे धीरे रंगों भरा जीवन बदल रहा है सेपिया तसवीर और फिर धीरे धीरे ब्लेक एंड व्हाइट सोचती हूँ बन जाऊं एक स्फ़टिक का प्रिज़्म कहीं से ढूँढ लाउँ एक उजली सफेद किरण जो रंगों से भर दे…

Read More

मख़मली ढलानों पर – दीप्ति नवल

मख़मली ढलानों पर मख़मली ढलानो पर आख़िरी आवाज़ थम चुकी है चरवाहे की दिन है कि दबे पांव गुज़र रहा है करीब से सफेद चोटियों पे रंग बिखेर रही है शफक नर्म हवाओं से गूंजती वादीमें कहीं कच्चे रास्ते है, कहीं पानी की जैसे गलियां सी और खेल रही है गलियों में डूबते हुए सूरज…

Read More

अहसास – आशमा कौल

  आसमान जब मुझे अपनी बाँहों में लेता है और ज़मीन अपनी पनाहों में लेती है मैं उन दोनों के मिलन की कहानी लिख जाती हूँ, श्वास से क्षितिज बन जाती हूँ । दिशाएँ जब भी मुझे सुनती हैं हवाएँ जब भी मुझे छूती हैं मैं ध्वनि बन फैल जाती हूँ और छुअन से अहसास…

Read More

एक शाम – अनुपमा चौहान

बिखरे हुये लम्हों की लडी बना ली है जब चाहे गले मे डाल ली जब चाहे उतार दी झील का सारा पानी उतर आया आँखों में न जाने कितनी गागर खाली हैं तैरता था उसमें तिनका कोई जो यूँ ही आँखों छलक गया कभी हौले से उतरूँ सैलाब की रवानियों में कि मेरी गागर अभी…

Read More

सच इतना भर ही है – अर्चना कुमारी

तलाश जारी है इन दिनों कविताओं में यथार्थ की जीवन के लक्ष्य की मानवता के उपसंहार की सबकी भिन्न रचनाओं में सत्य भी अलग-अलग है यथार्थ देखने सुनने भर अनुभूति शून्य है सब अपना घर,अपने बच्चे अपने लोग,अपना मोहल्ला अपना शहर,अपना राज्यसभा क्रमशः सबसे अन्त में आता है अपना देश विदेश की खबरों में उस…

Read More

उजाला दे चराग़-ए-रहगुज़र आसाँ नहीं होता

उजाला दे चराग़-ए-रहगुज़र आसाँ नहीं होता हमेशा हो सितारा हम-सफ़र आसाँ नहीं होता जो आँखों ओट है चेहरा उसी को देख कर जीना ये सोचा था कि आसाँ है मगर आसाँ नहीं होता बड़े ताबाँ बड़े रौशन सितारे टूट जाते हैं सहर की राह तकना ता-सहर आसाँ नहीं होता अँधेरी कासनी रातें यहीं से हो…

Read More

दो कविताएँ – वेणु गोपाल

आ गया था ऐसा वक्त कि भूमिगत होना पड़ा अंधेरे को नहीं मिली कोई सुरक्षित जगह उजाले से ज्यादा। छिप गया वह उजाले में कुछ यूं कि शक तक नहीं हो सकता किसी को कि अंधेरा छिपा है उजाले में। जबकि फिलहाल चारों ओर उजाला ही उजाला है! ………………………… अंधेरी रात में सड़कों पर दूधिया…

Read More

जब साज़ की लय बदल गई थी

जब साज़ की लय बदल गई थी वो रक़्स की कौन सी घड़ी थी रक़्स- dance अब याद नहीं कि ज़िंदगी में मैं आख़िरी बार कब हँसी थी जब कुछ भी न था यहाँ पे मा-क़ब्ल दुनिया किस चीज़ से बनी थी मा-क़ब्ल- before preceding, former मुट्ठी में तो रंग थे हज़ारों बस हाथ से…

Read More

ग़ज़ल – मुसव्विर सब्ज़वारी

कोई ख़्वाब सर से परे रहा ये सफ़र सराब-ए-सफ़र रहा मैं शनाख़्त अपनी गँवा चुका गई सूरतों की तलाश में सराब-ए-सफ़र – mirage of journey, शनाख़्त – recognition, identification, knowledge इक कुतुब-ख़ाना हूँ अपने दरमियाँ खोले हुए सब किताबें सफ़्हा-ए-हर्फ़-ए-ज़ियाँ खोले हुए कुतुब-ख़ाना – library, सफ़्हा-ए-हर्फ़-ए-ज़ियाँ – page of wordloss अपने होने का कुछ एहसास…

Read More

देखा हुआ सा कुछ है तो सोचा हुआ सा कुछ – निदा फ़ाज़ली

देखा हुआ सा कुछ है तो सोचा हुआ सा कुछ हर वक़्त मेरे साथ है उलझा हुआ सा कुछ होता है यूँ भी रास्ता खुलता नहीं कहीं जंगल-सा फैल जाता है खोया हुआ सा कुछ साहिल की गिली रेत पर बच्चों के खेल-सा हर लम्हा मुझ में बनता बिखरता हुआ सा कुछ फ़ुर्सत ने आज…

Read More

सर्जना के क्षण – अज्ञेय

एक क्षण भर और रहने दो मुझे अभिभूत फिर जहाँ मैने संजो कर और भी सब रखी हैं ज्योति शिखायें वहीं तुम भी चली जाना शांत तेजोरूप! एक क्षण भर और लम्बे सर्जना के क्षण कभी भी हो नहीं सकते! बूँद स्वाती की भले हो बेधती है मर्म सीपी का उसी निर्मम त्वरा से वज्र…

Read More

काँच के पीछे चाँद भी था – गुलज़ार

काँच के पीछे चाँद भी था काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी तीनों थे हम, वो भी थे, और मैं भी था, तनहाई भी यादों की बौछारों से जब पलकें भीगने लगती हैं सोंधी-सोंधी लगती है तब माज़ी की रुसवाई भी दो-दो शक्लें दिखती हैं इस बहके-से आईने में…

Read More