उषा : Daybreak

उषा

प्रात: नभ था बहुत नीला शंख जैसे

भोर का नभ;

राख से लीपा हुआ चौका;

अभी गीला पड़ा है

बहुत काली सिल ज़रा से लाल

केसर से

कि जैसे धुल गई हो

स्लेट पर या लाल खड़िया चाक

मल दी हो किसी ने

नील जल में या किसी की

गौर झिलमिल देह

जैसे हिल रही हो।

और… जादू टूटता है इस उषा का अब

सूर्योदय हो रहा है।

एक पीली शाम

एक पीली शाम

पतझड़ का ज़रा अटका हुआ पत्ता

शांत

मेरी भावनाओं में तुम्हारा मुखकमल

कृश म्लान हारा-सा

(कि मैं हूं वो मौन दर्पण में तुम्हारे कहीं?)

वासना डुबी

शिथिल पल में

स्नेह काजल में

लिये अद्भुत रूप कोमलता

अब गिरा, अब गिरा वो अटका हुआ

आंसू

संध्या तारक-सा

अतल में।

~ समशेर बहादुर सिंघ

.. .. .. .. ..

Daybreak

The sky at day break

like a blue conch;

the sky at day break

like a wet kitchen floor freshly

coated with coal ash,

or

like a black stone slab

with red saffron washed,

like a slate rubbed

by someone with reddish chalk,

like a fair body slowly

moving in blue water

and … then

the magic of this daybreak

now ends.

The sun rises.

An Evening Pale

An evening pale

like a yellow leaf, of fall,

still on its branch.

Calm

in my mind your lotus face

learn and tired a little lost

(or is that me reflected in your silent looking glass?)

In that fatigued moment

after the lusts’ dip,

full of amazing gentle beauty

the collerium of feeling

a tear about to fall … about to

fall

like an evening star,

shooting, into bottomless

depths.

~ Shamsher Bahadur Singh (Translated from the Hindi by Sunita Jain)

source : A Poem A Day (selected and translated by Gulzar)