ग़ज़ल – कुमार पाशी

अपने गिर्द-ओ-पेश का भी कुछ पता रख
दिल की दुनिया तो मगर सब से जुदा रख

लिख बयाज़-ए-मर्ग में हर जा अनल-हक़
और किताब-ए-ज़ीस्त में बाब-ए-ख़ुदा रख

उस की रंगत और निखरेगी ख़िज़ाँ में
ये ग़मों की शाख़ है इस को हरा रख

आ ही जाएगी उदासी बाल खोले
आज अपने दिल का दरवाज़ा खुला रख

यूँ भी बह जाएगा सब सैल-ए-बला में
अपने घर के सब दर-ओ-दीवार ढा रख

ना-मुरादी का उन्हें भी तजरबा हो
उन के रस्ते में भी कोई सानेहा रख

सनसनाती रात के आने से पहले
दिल में जाती धूप का टुकड़ा सजा रख

बेश-क़ीमत हैं ये दिल के ज़ख़्म ‘पाशी’
इन चराग़ों को हवाओं से बचा रख
– कुमार पाशी (1935-1992)

… … … … …

गिर्द-ओ-पेश = on all sides, all round; बयाज़-ए-मर्ग = book of death, जा = जगह, स्थान, अनल-हक़ = I am Truth, I am God( Sufi Mansoor was hanged for saying Anal Haq),
किताब-ए-ज़ीस्त = book of life, बाब-ए-ख़ुदा = door, gate of God, ख़िज़ाँ = autumn, decay, old age, सैल-ए-बला = flood of adversity, ना-मुरादी = failure, unfulfilled wishes, सानेहा = an accident, disaster.

source : rekhta.org

One thought

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s