अहमद फ़राज़ – चुनिंदा अशआर

चुनिंदा अशआर

शायद कोई ख्वाहिश रोती रहती है
मेरे अन्दर बारिश होती रहती है।
….

मैं चुप रहा तो सारा जहाँ था मेरी तरफ
हक बात की तो कोई कहाँ था मेरी तरफ।
….

मैंने सितमगरों को पुकारा है खुद ‘फराज़’
वरना किसी का ध्यान कहाँ था मेरी तरफ।
….

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जानाँ
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते जाते
….

जब भी दिल खोल के रोए होंगे
लोग आराम से सोए होंगे
…..

वो सफ़ीने जिन्हें तूफ़ाँ न मिले
नाख़ुदाओं ने डुबोए होंगे
…..

रफ़्ता-रफ़्ता यही ज़िंदाँ में बदल जाते हैं
अब किसी शहर की बुनियाद न डाली जाए

ज़िंदाँ – जेल
…..

इतना मानूस न हो ख़िलवते-ग़म से अपनी
तू कभी ख़ुद को भी देखेगा तो डर जाएगा

मानूस – परिचित         ख़िलवते-ग़म – ग़म की तनहाई
…..

मुद्दतों बाद भी यह आलम है
आज ही तू जुदा हुआ जैसे
….

शब सुलगती है दोपहर की तरह
चाँद, सूरज से जल बुझा जैसे

अपने सिवा हमारे न होने का ग़म किसे
अपनी तलाश में तो हमीं हम हैं दोस्तो
….

हर तमाशाई फ़क़त साहिल से मंज़र देखता
कौन दरिया को उलटता कौन गौहर देखता

गौहर- हीरे
….

अलफ़ाज़ थे कि जुगनू आवाज़ के सफ़र में
बन जाए जंगलों में जिस तरह रास्ता-सा
….

होश आया तो सभी ख़्वाब थे रेज़ा-रेज़ा
जैसे उड़ते हुए औराक़े-परीशाँ जानाँ

रेज़ा-रेज़ा – टुकड़े-टुकड़े                  औराक़े-परीशाँ- बिखरे पृष्ठ
…..

वो चाँद था मेरे बाजुओं में
आगोश था आसमान मेरा

इक शब था वो महेमान मेरा
कुछ और ही था जहान मेरा
….

तू कभी चाँदनी थी धूप था मैं
अब तो साए हुए हैं हम दोनों
….

इश्क कैसा कहाँ का अहद ‘फराज़’
घर बसाए हुए हैं हम दोनों
….

जहाँ भी जाना तो आँखों में ख़्वाब भर लाना
ये क्या कि दिल को हमेशा उदास कर लाना
…..

मैं बर्फ बर्फ रुतों में चला तो उसने कहा
पलट के आना तो कश्ती में धूप भर लाना
….

मुझको साक़ी से गिला है तो तुनक-बख़्शी का
ज़हर भी दे तो मेरे जाम को भर-भर कर दे

तुनक-बख़्शी – कम देना
….

कभी तो हमको भी बख़्शे वो अब्र का टुकड़ा
जो आसमान को नीली रिदाएँ देता है

रिदाएँ – चादरें
….

रात-भर हँसते हुए तारों ने
उनके आरिज़ भी भिगोए होंगे

आरिज़- गाल
…..
– अहमद फ़राज़
ग़ज़लें, नज़्में, शेर और जीवनी
संपादक -कन्हैयालाल नंदन

2 thoughts

Comments are closed.