मैं अनंत पथ में लिखती जो

MAHADEVI-VERMA

मै अनंत पथ में लिखती जो
सस्मित सपनों की बाते
उनको कभी न धो पायेंगी
अपने आँसू से रातें!

उड़् उड़ कर जो धूल करेगी
मेघों का नभ में अभिषेक
अमिट रहेगी उसके अंचल-
में मेरी पीड़ा की रेख!

तारों में प्रतिबिम्बित हो
मुस्कायेंगी अनंत आँखें,
हो कर सीमाहीन, शून्य में
मँडरायेगी अभिलाषें!

वीणा होगी मूक बजाने-
वाला होगा अंतर्धान,
विस्मृति के चरणों पर आ कर
लौटेंगे सौ सौ निर्वाण!

जब असीम से हो जायेगा
मेरी लघु सीमा का मेल,
देखोगे तुम देव! अमरता
खेलेगी मिटने का खेल!
– महादेवी वर्मा

source : http://www.kavitakosh.org

3 thoughts

  1. I like how you collect poems and write interesting poems yourself, especially in Hindi. Cheers to your spirit.
    I wrote two poems on Lazarus. Would be interesting to see your thoughts on it.

    Liked by 1 person

Comments are closed.