शहर -अमृता प्रीतम – चुनी हुई कवितायें

images

 

मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है
सड़कें – बेतुकी दलीलों-सी…
और गलियाँ इस तरह
जैसे एक बात को कोई इधर घसीटता
कोई उधर

हर मकान एक मुट्ठी-सा भिंचा हुआ
दीवारें-किचकिचाती सी
और नालियाँ, ज्यों मुँह से झाग बहता है

यह बहस जाने सूरज से शुरू हुई थी
जो उसे देख कर यह और गरमाती
और हर द्वार के मुँह से
फिर साईकिलों और स्कूटरों के पहिये
गालियों की तरह निकलते
और घंटियाँ-हार्न एक दूसरे पर झपटते

जो भी बच्चा इस शहर में जनमता
पूछता कि किस बात पर यह बहस हो रही?
फिर उसका प्रश्न ही एक बहस बनता
बहस से निकलता, बहस में मिलता…

शंख घंटों के साँस सूखते
रात आती, फिर टपकती और चली जाती

पर नींद में भी बहस ख़तम न होती
मेरा शहर एक लम्बी बहस की तरह है….

अमृता प्रीतम – चुनी हुई कवितायें

A P

2 thoughts

  1. Wow…..Such an apt comparison….Only Amrita can think of comparing chaotic urban development with senseless discussions….In both everyone has something to add to but without giving any shape….

    Liked by 1 person

    • This one is less known poem.She wrote it many years ago but so relevant even today. ..poets like Amrita are beyond the boundaries of time and place. .

      Like

Comments are closed.