आईने

उतार लिए जब से सारे आईने अपने अंदर ,
सूरत अपनी कहीं नज़र आती नहीं |
-नेहल