चुनिंदा अशआर- बशीर बद्र

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाए ।

– – – – – – – – – –
उसके लिए तो मैंने यहा तक दुआयें की
मेरी तरह से कोई उसे चाहता भी हो ।

– – – – – — –
आखो में रहा, दिल में उतर कर नहीं देखा
कश्ती के मुसाफिर ने समन्दर नहीं देखा ।

– — — – – – – —
कभी बरसात में शादाब बेलें सूख जाती है
हरे पेड़ो के गिरने का कोई मौसम नहीं होता ।

– – – – —- —
कभी सात रंगो का फूल हूँ कभी धूप हूँ कभी धूल हूँ
मैं तमाम कपड़े बदल चुका तिरे मौसमों की बरात में ।

– – – – – — – – ——-
इरादे हौसले, कुछ ख्वाब कुछ भूली हुई यादें
गज़ल के एक धागे में कई मोती पिरोए है ।

– — – — – — – —
बारिश बारिश कच्ची क़ब्र का घुलना है
जां लेवा एहसास अकेले रहने का ।

– — – – – — – —

पलकें भी चमक उठती है सोते में हमारी
आँखो को अभी ख़्वाब छुपाने नहीं आते ।
—-बशीर बद्र

One thought

Comments are closed.